IDCW in Mutual Fund in Hindi: अवधि और इसके महत्व को समझना

idcw in mutual fund

IDCW in Mutual Fund

IDCW, या इन-डायरेक्ट क्रेडिट वारंट, एक वित्तीय साधन है जो आमतौर पर म्यूचुअल फंड निवेश में उपयोग किया जाता है। यह म्युचुअल फंड के ऋण निवेश के लिए गारंटी के रूप में कार्य करता है और निवेशकों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है। इस लेख में, हम चर्चा करेंगे कि IDCW क्या है, यह कैसे काम करता है, और म्यूचुअल फंड उद्योग में इसका क्या महत्व है।

आईडीसीडब्ल्यू क्या है?

IDCW अनिवार्य रूप से एक क्रेडिट एन्हांसमेंट टूल है जो म्यूचुअल फंड के डेट इन्वेस्टमेंट को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है। यह म्युचुअल फंड के ऋण निवेश के लिए गारंटी के रूप में कार्य करता है और डिफ़ॉल्ट के मामले में निवेशकों को सुरक्षा की एक परत प्रदान करता है। IDCW एक तृतीय-पक्ष वित्तीय संस्थान द्वारा जारी किया जाता है और इसे म्यूचुअल फंड के ऋण निवेशों को अतिरिक्त क्रेडिट सहायता प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

आईडीसीडब्ल्यू कैसे काम करता है?

डिफॉल्ट की स्थिति में, IDCW प्रदाता कदम उठाता है और म्यूचुअल फंड के ऋण दायित्वों को अपने ऊपर ले लेता है। यह म्युचुअल फंड निवेशकों के लिए जोखिम को कम करने में मदद करता है और उनके निवेश के लिए अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है। यह सुरक्षा प्रदान करने के बदले में, IDCW प्रदाता म्यूचुअल फंड से शुल्क लेता है।

म्युचुअल फंड उद्योग में IDCW का महत्व

IDCW in Mutual Fund
Discussing about IDCW in Mutual Fund

IDCW म्युचुअल फंड उद्योग में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, क्योंकि यह म्युचुअल फंड निवेशकों के लिए अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है। यह उन निवेशकों के लिए विशेष रूप से उपयोगी है जो कम जोखिम वाले निवेश विकल्प की तलाश कर रहे हैं और जो यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनका निवेश सुरक्षित है। IDCW डिफ़ॉल्ट के जोखिम को कम करने और निवेशकों को मन की शांति प्रदान करने में मदद कर सकता है।

इसके अतिरिक्त, IDCW म्यूचुअल फंड में निवेशकों की एक विस्तृत श्रृंखला को आकर्षित करने में भी मदद कर सकता है। सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत प्रदान करके, आईडीसीडब्ल्यू कम जोखिम वाले निवेश विकल्पों की तलाश करने वाले रूढ़िवादी निवेशकों को म्यूचुअल फंड की अपील बढ़ाने में मदद कर सकता है।

Also Read: Exit Load in Mutual Fund in Hindi

म्यूचुअल फंड में ग्रोथ और IDCW के बीच अंतर

ग्रोथ और IDCW (इनकम डिस्ट्रीब्यूशन कंट्रोल वारंट) दो अलग-अलग तरह की म्यूचुअल फंड स्कीमें हैं।

ग्रोथ फंड्स:

ग्रोथ फंड मुख्य रूप से इक्विटी में निवेश करते हैं और लंबी अवधि में निवेशकों को पूंजी की सराहना प्रदान करने का लक्ष्य रखते हैं। ये फंड उन कंपनियों में निवेश पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जिनके समग्र बाजार की तुलना में तेज गति से बढ़ने की उम्मीद है। जैसा कि विकास पर ध्यान दिया जाता है, ये फंड निवेशकों को लाभांश का भुगतान नहीं करते हैं।

IDCW फंड:

IDCW फंड आय-उन्मुख म्यूचुअल फंड हैं जिनका उद्देश्य नियमित लाभांश के माध्यम से निवेशकों को आय का एक स्थिर प्रवाह प्रदान करना है। ये फंड डेट इंस्ट्रूमेंट्स जैसे बॉन्ड, फिक्स्ड डिपॉजिट और अन्य फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं। इन फंडों में रिटर्न मुख्य रूप से ब्याज आय के माध्यम से उत्पन्न होता है न कि पूंजीगत वृद्धि के माध्यम से।

संक्षेप में, ग्रोथ फंड पूंजी वृद्धि पर ध्यान केंद्रित करते हैं जबकि IDCW फंड नियमित लाभांश के माध्यम से आय का एक स्थिर प्रवाह उत्पन्न करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

निष्कर्ष

म्युचुअल फंड उद्योग में IDCW एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो म्युचुअल फंड निवेशकों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है। यह म्युचुअल फंड के ऋण निवेश के लिए गारंटी के रूप में कार्य करता है और डिफ़ॉल्ट के मामले में सुरक्षा की एक परत प्रदान करता है। म्युचुअल फंड उद्योग में IDCW के महत्व को समझकर, निवेशक अपने निवेश के बारे में अधिक सूचित निर्णय ले सकते हैं और उन विकल्पों को चुन सकते हैं जो उनके निवेश लक्ष्यों और जोखिम सहनशीलता को सर्वोत्तम रूप से पूरा करते हैं।

Recommended Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright© 2024 LoanKai || All Rights Reserved